जब पुलिस ने प्लेन को खतरा बता खाली कराया संसद भवन, तो पता चला माजरा कुछ और ही हैं।

अमेरिका में उस वक्त हड़कंप मच गया जब संसद भवन के ऊपर से एक विमान उड़ता नजर आया. तुरंत हरकत में आई यूएस कैपिटल पुलिस ने विमान को संभावित खतरा मानते हुए संसद भवन खाली करा लिया, लेकिन बाद में पता चला कि मामला कुछ और ही है.

अमेरिका में संसद भवन (US Capitol) के ऊपर से गुजरे एक विमान के चलते कुछ देर के लिए हड़कंप मच गया. पुलिस ने संभावित खतरे का हवाला देते हुए संसद भवन को खाली करा लिया, लेकिन बाद में माजरा कुछ और ही निकला.

विमान दिखाई देने के बाद यूएस कैपिटल पुलिस ने बयान जारी करके कहा कि वह एक ऐसे विमान पर नजर रखे हुए है, जो संभावित खतरा पैदा कर सकता है. हालांकि, बाद में उसे दूसरा बयान जारी करना पड़ा.

पुलिस को नहीं थी जानकारी 

हमारी सहयोगी वेबसाइट WION में छपी खबर के अनुसार, यूएस कैपिटल पुलिस (US Capitol Police) जिस विमान को खतरा मान रही थी, उसमें अमेरिकी सेना (US Army) के स्काईडाइवर्स सवार थे, जो वॉशिंगटन नेशनल गेम में हिस्सा लेने जा रहे थे.

इस संबंध में पुलिस को जानकारी नहीं थी. ऐसे में जब बुधवार को उसे संसद भवन के ऊपर से विमान उड़ता दिखाई दिया, तो वो अलर्ट हो गई और यूएस कैपिटल को खाली करा लिया.

हाउस स्पीकर ने जताई नाराजगी

‘सभावित खतरे’ संबंधी बयान के 20 मिनट बाद पुलिस ने दूसरा बयान जारी किया. उसने बताया कि  विमान अब कैपिटल कॉम्प्लेक्स के लिए खतरा नहीं है और पुनः प्रवेश के लिए भवन को तैयार किया जा रहा है. वहीं, हाउस स्पीकर Nancy Pelosi ने इस मामले में फेडरल एविएशन एडमिनिस्ट्रेशन के रुख को लेकर नाराजगी जताई है.

उन्होंने कहा कि पर्याप्त तालमेल नहीं होने के चलते बेवजह डर का माहौल उत्पन्न हुआ. Pelosi ने आगे कहा कि फेडरल एविएशन एडमिनिस्ट्रेशन को इस बारे में यूएस कैपिटल पुलिस को पूर्व में सूचित करना चाहिए था, लेकिन ऐसा नहीं किया गया. जो स्पष्ट रूप से उसकी विफलता को दर्शाता है.  

‘बेहद तनावपूर्ण थे वो 15 मिनट’

तालमेल के अभाव के चलते हुई इस घटना को लेकर सांसदों में नाराजगी है. सांसद लेगर फर्नांडीज ने कहा कि वो 15 मिनट हमारे लिए बेहद तनावपूर्ण थे.

वहीं, सांसद रयान नोबल्स ने कहा कि पुलिस संभावित खतरे का हवाला देते हुए हम सभी को संसद भवन से बाहर ले गई थी, उस वक्त हम सभी घबरा गए थे. इस घटना के बाद मांग की जा रही है कि दोषी अधिकारियों पर कार्रवाई होनी चाहिए.

Leave a Reply

Your email address will not be published.