शिक्षा मंत्री ने राज्यसभा में बताया,13000 से ज्यादा सरकारी स्कूलों में नहीं है कंप्यूटर लैब।

राज्यसभा में वघानी की तरफ से दिए गए आंकड़ों के मुताबिक आदिवासी बाहुल्य जिले डाहोब के सबसे ज्यादा 1024 स्कूलों में कंप्यूटर लैब नहीं हैं. वहीं, मेहसाना के 991, छौटेदेपुर में 928, पाटन के 786, कच्छ के 739 और महीसागर जिले के 642 स्कूलों में कंप्यूटर लैब नहीं है.

गुजरात के 13000 सरकारी स्कूलों में कंप्यूटर लैब नहीं है. इस बात की जानकारी शिक्षा मंत्री जीतू वघानी ने सोमवार को राज्यसभा में दी. कांग्रेस विधायक अश्विन कोटवाल के एक सवाल के जवाब में उन्होंने बताया कि प्रदेश के 13818 प्राइमरी स्कूलों में कंप्यूटर की सुविधा नहीं है.

राज्यसभा में वघानी की तरफ से दिए गए आंकड़ों के मुताबिक आदिवासी बाहुल्य जिले डाहोब के सबसे ज्यादा 1024 स्कूलों में कंप्यूटर लैब नहीं हैं. वहीं, मेहसाना के 991, छौटेदेपुर में 928, पाटन के 786, कच्छ के 739 और महीसागर जिले के 642 स्कूलों में कंप्यूटर लैब नहीं है.

जवाब के दौरान शिक्षा मंत्री वघानी ने कहा कि राज्य सरकार ने कंप्यूटर लैब के बजाय अपने ‘ज्ञानकुंज प्रोजेक्ट’ के तहत नवीनतम तकनीक का उपयोग करके शिक्षा प्रदान करने के लिए स्कूलों में “स्मार्ट क्लासरूम” बनाने का निर्णय लिया है.

इधर, राज्य के पंचायती राज विभाग में 1700 से ज्यादा पदों पर भर्ती निकाली गई है. जो अभ्यर्थी इन पदों पर आवेदन करना चाहते हैं, वो ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर आवेदन कर सकते हैं. आवेदन का स्टेप्स ऑफिशियल वेबसाइट पर दिया गया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.