अब परेशानी नहीं, शिक्षा को बेहतर तरीके से जोड़ेगा मेटावर्स।

आज कल हर जगह मेटावर्स के बारे में सुनने को मिल रहा है. दुनिया का हर इंसान जो कंप्यूटर तकनीक को समझता है, वो मेटावर्स को भविष्य बता रहा है. क्या है यह मेटावर्स? क्या यह तकनीक दुनिया की शिक्षा व्यवस्था को बदल देने की ताकत रखती है?

असल में मेटावर्स 3D/4D ग्राफिक की मदद से बनाई हुई दुनिया है जिसमें यूजर अपना खुद का अवतार बनाकर उसे वर्चुअली महसूस कर सकता है. असल में अवतार के जरिए आप अपने आपको कोई भी रंग, रूप या वेशभूषा में ढाल सकते हैं और मेटावर्स की दुनिया में दूसरे अवतार्स से मिल जुल सकते हैं. बिल्कुल उसी तरह जिस तरह आप असली दुनिया में जीते हैं. आप इस दुनिया में स्कूल या कॉलेज जा सकते हैं और दुनिया के अलग-अलग लोगों से मिलकर collective learning को आगे बढ़ा सकते हैं. आप शॉपिंग कर सकते हैं. यहां तक की मेटावर्स में मूवी देखने का लुत्फ भी उठा सकते हैं. 

शिक्षक और शिष्यों को जोड़ने में कारगर

अगर इस तकनीक को शिक्षा के साथ जोड़कर देखा जाए तो यह तकनीक बेहद शानदार तरीके से दुनिया के बहुत से शिक्षक और शिष्यों को जोड़ सकती है, जिससे शिक्षा का स्तर तेजी से ऊपर उठ सकता है. इसी सपने को सच कर दिखाने के लिए भारत की ऑनलाइन स्कूल शिक्षा की जानी मानी कंपनी ‘UnfoldU Group’ अपना खुद का एजुकेशनल मेटावर्स लेकर आ रही है. कंपनी ने अपना खुद का क्रिप्टो टोकन भी लॉन्च किया है जिसका नाम ‘UNGC token’ है. इस मेटावर्स में शिक्षक कंटेंट बनाकर UNGC टोकन में कमाई कर पाएंगे. 

फाउंडर का बयान

इस मौके पर हरीश बजाज, फाउंडर ने कहा, ‘शिक्षा का पहला स्वरूप था किताबों से पढ़ना, दूसरा था ऑनलाइन और अब तीसरा है मेटावर्स के जरिए पढ़ना. UnfoldU भारत में Education 3.0 को लाने वाली पहली कंपनी बनने जा रही है. मुझे विश्वास है यह शिक्षा के तरीके को गरीबी अमीरी से ऊपर उठाकर सबको सामान ज्ञान पहुंचाने में मदद करेगा.

1,000 रुपए पार करने की ताकत

UNGC टोकन इस समय Pancakeswap exchange और Bitlux OTC exchange पर लिस्टेड है और कुछ ही समय में Gate.io exchange पर अपना IEO लेकर आएगी. इस समय UNGC टोकन की कीमत 27 रुपए के लगभग है. कंपनी अपनी क्रिप्टो पब्लिक ऑफरिंग के जरिए 700 करोड़ रुपए जुटाएगी. क्रिप्टो एक्स्पर्ट्स की मानें तो UNGC टोकन तेजी से 1,000 रुपए पार करने की ताकत रखता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.