दूषित पानी से फैल रही पीलिया की बीमारी,अब तक इतने लोग की हुई मौत।

जलदाय विभाग के एससी पी सी मिड्ढा ने भी गांव का दौरा किया और जानकारी प्राप्त की और विभाग के प्रवीण कुमार मुटनेजा ने बताया कि गांव के अलग अलग वार्डों से पानी के सैंपल लिए गए थे.

क्षेत्र के समीपवर्ती ग्राम पंचायत अरायण में दूषित जल के कारण फैले पीलिया रोग के कारण कल जयपुर के एसएमएस हॉस्पिटल में 4 दिन से भर्ती एक मरीज गुरप्रीत सिंह पुत्र हरबंस सिंह मजबी सिख की मृत्यु हो गई. जिसका शाम को अंतिम संस्कार कर दिया गया.

21 वर्षीय गुरप्रीत सिंह दो भाइयों और दो बहनों में सबसे छोटा था और अविवाहिय था. गुरप्रीत सिंह ने कृषि विषय के साथ सीनियर सैकंडरी तक पढ़ाई की थी इसके पिता जलदाय विभाग में कर्मचारी है. पूर्व प्रधान ओम सोलंकी, गिरदावर बोहड़ सिंह और पटवारी बिंद्र सिंह ने पूरे मामले की रिपोर्ट तैयार की.

जलदाय विभाग ने पुन- लिए पानी के सैंपल

मामला राज्य स्तर पर पहुंचने के कारण विभिन्न विभागों की टीमें भी जांच में लगी है. आज जलदाय विभाग के एससी पी सी मिड्ढा ने भी गांव का दौरा किया और जानकारी प्राप्त की. विभाग के प्रवीण कुमार मुटनेजा ने बताया कि गांव के अलग अलग वार्डों से पानी के सैंपल लिए गए थे जिनकी जांच में कोई हानिकारक पदार्थ नहीं पाए गए. इसके अलावा अभियान चलाकर जहां जहां भी पाइप की लीकेज थी उसको दुरुस्त कर दिया गया है.

चिकित्सा विभाग द्वारा घर घर सर्वे

स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा घर-घर जाकर लोगों के सैंपल लिए जा रहे हैं. चिकिस्ता विभाग की टीम जिसमें डॉ. बजरंग लाल जांगिड, डॉ. हरीश केडिया, श्रीमती गुरमेल कौर एल एच वी, श्रीमती पुष्पा एएनएम और आंगन बाड़ी आशा सहयोगिन शामिल रहे और 108 घरों और 98 घरों का सर्वे किया. जिसमें तीन नए पीलिया रोगी और पेट खराबी सहित कुछ अन्य केस सामने आए हैं जिनका इलाज शुरू कर दिया गया है. इस प्रकार गांव के कुल 22 पीलिया के मामले सामने आ चुके हैं जिनमें एक की कल मृत्यु हो गई.

जलदाय विभाग की पाइप लाइन टूट जाने के कारण लोगों के घरों में पीने का पानी गंदा सप्लाई होने से लोगों के बीमार होने के बाद मामला सामने आया था. जबकि जलदाय विभाग ने पानी के सैंपल को सही बताया गांव में फैली बीमारी की सूचना मिलते ही उपखंड अधिकारी करणपुर ने स्थिति का जायजा लेने के लिए गांव में सीएससी और जलदाय विभाग का निरीक्षण कर मौके पर संबंधित अधिकारियों को दिशा निर्देश दिए थे.

Leave a Reply

Your email address will not be published.