प्रेग्नेंट होते-होते मौत के मुंह तक पहुंच गई बिल्ली, पैसों के लिए पैदा करवाए 70 बच्चे

इंसान के मन में लालच धीरे-धीरे बढ़ता ही जा रहा है. आज के समय में अपनी जरूरतें पूरी करने के लिए पैसों के लिए इंसान कुछ भी करने को तैयार है. लेकिन ऐसे कई लोग हैं, जो पैसे कमाने के लिए इंसानियत भी भूल जाते हैं. सोशल मीडिया पर पैसों के लिए दानव बने कुछ ऐसे ही लोगों की खबर शेयर की गई. महंगे नस्ल की बिल्लियों के बच्चे बेचकर पैसे कमाने के चक्कर में इन लालचियों ने दो बिल्लियों से करीब सत्तर बच्चे पैदा करवाए. इस वजह से दोनों मौत के मुंह तक पहुंच गई|

बिना बालों वाली स्फिंक्स कैट को बिल्लियों की सबसे महंगी नस्ल माना जाता है. यूके के लंकाशायर के कैट सैंक्चुअरी वर्कर्स ने दो स्फिंक्स कैट को उसके मालिकों के चंगुल से छुड़ाया. इन बिल्लियों के मालिक पैसे कमाने के लिए उन्हें जबरदस्ती ब्रीड करवाते थे. बच्चे पैदा करते-करते दोनों मौत के मुंह तक पहुंच गए. इन्हें ब्रीडिंग मशीन की तरह इस्तेमाल किया जा रहा था. आईएनएस सत्तर बच्चे पैदा करवाकर इनके मालिक ने करीब एक करोड़ 35 लाख रुपए कमा लिए थे. अब इन बिल्लियों को उनसे छुड़ा लिया गया है और इनके लिए आने घर की तलाश की जा रही है|

प्रेग्नेंट होते-होते मौत के मुंह तक पहुंच गई बिल्ली, पैसों के लिए पैदा करवाए 70 बच्चे

रेस्क्यू टीम ने बताया कि 11 साल की कीको से अभी तक सत्तर बच्चे पैदा करवाए गए हैं. हर बच्चे को करीब दो लाख में बेचा जाता था. कीको को उसके ही नौ साल के बेटे निम के साथ ब्रीड करवाया जाता था. दोनों को पिछले हफ्ते रेस्क्यू कर ब्लैकपूल में भेजा गया, जहां दोनों को तुरंत मेडिकल अटेंशन दी गई. दोनों को ही फेलिन कालीकीवायरस से ग्रस्त पाया गया. इस वायरस की चपेट में आने की वजह से दोनों को साँस लेने में परेशानी हो रही थी. साथ ही उनके मसूड़ों में भी इन्फेक्शन था|

सत्तर बच्चे पैदा करने की वजह से कीको के पेट की स्किन काफी लूज हो गई को उसके पीठ तक फोल्ड किया जा सकता था. वहीं निम के मुंह में काफी ज्यादा इन्फेक्शन था जिस वजह से उसके पुरे दांत निकालने पड़ गए. इतना ही नहीं उनके किडनी में भी इन्फेक्शन पाया गया. दोनों के ही इलाज में करीब दो लाख का खर्च आया. रेस्क्यू टीम उनकी हालत देख हैरान थी. अब उन्हें अपने लिए नए घर की तलाश है, जहां उन्हें सुकून की जिंदगी मिलेगी|

Leave a Reply

Your email address will not be published.