सारी नकारात्मकता होगी दूर बस सूर्य ग्रहण के समापन के तुरंत बाद जरूर करें ये काम। जानिए कौन से।

नए साल की शुरुआत हुए चार माह हो चुके हैं और अप्रैल माह के आखिरी दिन अमावस्या को साल का पहला सूर्य ग्रहण लगने जा रहा हैं. आइए जानते हैं सूर्य ग्रहण के बाद किन कामों का किया जाना जरूरी होता है.

साल 2022 का पहला सूर्य ग्रहण 30 अप्रैल, शनिवार के दिन लगने जा रहा है. सूर्य ग्रहण को लेकर ज्योतिष शास्त्र में कई तरह की मान्यताएं बताई गई हैं. सूर्य ग्रहण से पहले क्या करना चाहिए, क्या नहीं करना चाहिए.

सूर्य ग्रहण के दौरान क्या नहीं करना चाहिए और सूर्य ग्रहण के बाद उसके नकारात्मक प्रभावों को दूर करने के लिए क्या करना जरूरी है. इन सब बातों का जिक्र ज्योतिष शास्त्र में किया गया है.  

बता दें कि 30 अप्रैल की रात 12 बजकर 15 मिनट से सूर्य ग्रहण शुरू होगा और 1 मई सुबह 4 बजकर 7 मिनट पर इसका समापन होगा. शास्त्रों के अनुसार ग्रहण के बाद कुछ कामों को जरूर करना चाहिए. इससे ग्रहण के नकारात्मक ऊर्जा का प्रभाव समाप्त किया जा सकता है. आइए जानें इनके बारे में. 

सूर्य ग्रहण के तुरंत बाद जरूर करें ये कार्य

– ज्योतिष शास्त्र में बताया गया है कि सूर्य ग्रहण के बाद तुलसी के पौधे में गंगाजल का छिड़काव करना चाहिए. इससे तुलसी का पौधा शुद्ध होता है. 

– घर के मंदिर या पूजा घर में गंगाजल का छिड़काव अवश्य करें. इससे घर में प्रवेश की नकारात्मक ऊर्जा खत्म होती है. 

– सूर्य ग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाएं अपना विशेष ध्यान रखें. ऐसा माना जाता है कि ग्रहण के दौरान निकलने वाली नकारात्मक ऊर्जा का प्रभाव मां के साथ होने वाले बच्चे पर भी पड़ता है. इसलिए ग्रहण समाप्त होने के तुरंत बाद स्नान अवश्य करें. 

–  ग्रहण के बाद तिल, चने की दाल का दान अवश्य करें. ऐसा करने से जीवन की समस्याएं और संकटों से छुटकारा मिलता है. 

– ग्रहण के बाद वातावरण में नकारात्मक ऊर्जा फैली होती है. इसलिए ग्रहण खत्म होने के बाद पूरे घर में ही गंगाजल छिड़क दें. 

– ग्रहण के बाद घर में झाड़ू और पोछा अवश्य लगाएं. 

– शास्त्रों में लिखा है कि ग्रहण के बाद गंगास्नान अवश्य करें. लेकिन अगर आप गंगा स्नान के लिए नहीं जा सकते, जो घर पर ही नहाने के पानी में गंगाजल डालकर स्नान करें. इससे भी लाभ प्राप्त होता है. 

– मान्यता है कि सूर्य ग्रहण के बाद देवी-देवताओं के दर्शन को शुभ माना गया है. इसलिए ग्रहण खत्म होने के बाद अपने आराध्य देव के दर्शन अवश्य करें. 

Leave a Reply

Your email address will not be published.