खाना खाते समय दिशा का रखें ख्याल, गलत दिशा कर सकती आपको कंगाल। पढ़ें पूरी जानकारी।

घर का वास्तु अगर सही हो तो व्यक्ति के जीवन में खुशियां बनी रहती हैं. साथ ही यदि दिशाएं सही हों तो व्यक्ति को भाग्य का साथ मिलता है और घर में बरकत भी आती है. वास्तु शास्त्र में खाना खाने के लिए भी उचित दिशाओं के बारे में बताया गया है.

वास्तु शास्त्र में सभी दिशाओं का अलग-अलग महत्व है. जिस प्रकार पूजा-पाठ के लिए पूर्व-उत्तर दिशा (ईशान कोण) खास मानी जाती है, उसी तरह से अलग-अलग काम के लिए अलग-अलग दिशा निर्धारित की गई है. वास्तु शास्त्र के मुताबिक खान-पान के लिए भी उचित दिशा का चयन करना चाहिए. आइए जानते हैं कि भोजन के लिए किस दिशा की ओर मुंह करके बैठना चाहिए और किस दिशा की ओर मुंह करके खाना निषेध माना गया है.

किस दिशा की ओर मुंह करके भोजन करना है अच्छा?

-वास्तु शास्त्र के अनुसार पूर्व दिशा से देवताओं का संबंध है. ऐसे में इस दिशा की ओर मुंह करके खाना खाने से बीमारियां दूर होती है, साथ ही देवताओं की भी कृपा प्राप्त होती है. इसके अलावा आरोग्य और लंबी उम्र का भी वरदान प्राप्त होता है. 

-उत्तर भी देवताओं की दिशा होती है. इस दिशा से मां लक्ष्मी और धन के देवता कुबेर का संबंध होता है. ऐसे में इस दिशा की ओर मुंह करके भोजन करने से घर में रुपए-पैसों की कमी नहीं होती है. घर के मुखिया को उत्तर की दिशा की ओर मुंह करके भोजन करना शुभ माना गया है.  

-नौकरीपेशा वालों के लिए पश्चिम दिशा शुभ मानी गई है. उन्हें इस दिशा की ओर मुंह करके भोजन करने से सेहत अच्छी रहती है. 

-वास्तु शास्त्र के मुताबिक दक्षिण दिशा की ओर मुंह करके नहीं खाना चाहिए. दरअसल इस दिशा की ओर मुंह करके भोजन करने से दरिद्रता आती है. साथ ही कंगाली का सामना करना पड़ सकता है. 

-वास्तु शास्त्र के मुताबिक घर आए मेहमान को पश्चिम दिशा में बैठाकर खाना खिलाना चाहिए. साथ ही खुद उत्तर या पूरब की ओर मुंह करके भोजन करें. इससे घर में बरकत होती है. अगर खाना खाने के लिए डाइनिंग टेबल का इस्तेमाल करते हैं तो उसे दक्षिण या पश्चिम की दीवार की तरफ रखें. 

Leave a Reply

Your email address will not be published.