100 सीटों से कम पर समझौता नहीं,पिछड़ा व अतिपिछड़ा समाज के युवाओं को ज़्यादा से ज़्यादा सीटों पर चुनाव लड़गी- कांग्रेस नेता कैलाश पाल

कांग्रेस के पूर्व प्रदेश उपाध्यक्ष कैलास पाल ने कहा कि बिहार में कांग्रेस को भाजपा को रोकने के उद्देश्य से नहीं बल्कि कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ाने व पार्टी को मज़बूत बनाने के उद्देश्य से चुनाव मैदान में उतरना चाहिए।

राजद से हिस्सेदार की तरह हिस्सेदारी लेनी चाहिये,पार्टी को सौ सीटों से कम में समझौता नहीं करना चाहिये चाहें फिर अकेला ही चुनाव मैदान में क्यों न उतरना पड़ जाय।समय के अनुसार पार्टी को पिछड़ा व अतिपिछड़ा समाज के युवाओं को ज़्यादा से ज़्यादा सीटों पर चुनाव लड़वाकर भाजपा की पिछड़ा व अतिपिछड़ा समाज में बढ़ती वर्चस्व को रोक सकते हैं।भाजपा की विचारधारा पिछड़ा ,अतिपिछड़ा व दलित वर्ग के अनुरूप नहीं होने के बावजूद भी इन समाज में भाजपा का बर्चसव बढ़ने का सबसे बड़ा कारण है इन समाज को सत्ता में बराबर का भागीदार बनाना जो अब तक कांग्रेस नहीं कर पा रही हैं।

क्या मजाल भाजपा विचारधारा से दुर रहने वाली गरीब-गुरुआ की जातियों की समाज को भाजपा मन भाए।इन तमाम समाज की असली विकास कांग्रेसी विचारधारा से है समाज के लोग जानते हैं परन्तु जब सत्ता में भागीदारी मिलती हुईं नहीं दिखती हैं तो वह मजबूरी में उस विचारधारा से जुड़ जाती हैं जो वास्तव में उनके योग्य नहीं।