सर्वे: देश में बेरोज़गा’री का आलम ऐसा कि MA-MCOM पढ़े लोग मांग रहे है भी’ख

देश में बेरोजगारी की हालत ऐसी है कि पोस्ट ग्रेजुएशन और ग्रेजुएशन करने वाले लोग भी भीख मांग रहे हैं. राजस्थान सरकार ने भिखारी उन्मूलन एवं पुनर्वास कानून बनाया है, जिसके तहत जयपुर में भिखारियों का सर्वे शुरू किया गया है. इस सर्वे में चौंकाने वाले तथ्य सामने आए हैं.

दरअसल, इस सर्वे में जयपुर शहर में कुछ भिखारी एमए और एमकॉम किए हुए हैं तो कुछ बीए और बीकॉम किए हुए हैं. इन भिखारियों का कहना है कि अगर उन्हें कोई काम मिलता है तो वह भीख मांगना छोड़ कर काम करने के लिए तैयार हैं.

राजस्थान के ही गोविंदगढ़ के रहने वाले 34 साल के पवन एमकॉम करने के बाद अजमेर रोड पर 200 फीट बाईपास पर भीख मांग रहे हैं. ये एक फैक्ट्री में मजदूरी करते थे लेकिन काम बंद होने की वजह से खाने के लिए चौराहे पर बैठना शुरू कर दिया. शादीशुदा नहीं होने की वजह से कहीं कोई काम के लिए ले जाता है तो चले जाते हैं वरना भीख मांग कर खा लेते हैं.

इसी तरह से 38 साल का मुकेश ने एमए तक पढ़ाई की है जो झुंझुनू जिले के डूंडलोद का रहने वाला है और जयपुर शहर के नाहरगढ़ थाना क्षेत्र में छोटी चौपड़ पर भीख मांग कर जिंदगी गुजर बसर करता है. वह भी अविवाहित है और फुटपाथ पर सोता है.

इसी तरह से एमकॉम तक पढ़ाई करने वाले जगदीश गुप्ता, ग्रेजुएशन करने वाले रमेश और शैलेश हैं जो जयपुर में भीख मांगकर  गुजर-बसर करते हैं.

जयपुर पुलिस कमिश्नरेट के तहत अलग-अलग थानों के इंस्पेक्टरों ने शहर भर में सर्वे किया, जहां पर 1162 भिखारी भीख मांगते हुए मिले. इनमें से 419 भिखारियों ने कहा कि अगर उन्हें कोई काम मिलता है तो वह भीख मांगना छोड़ कर काम करने के लिए तैयार हैं.