मां-बाप दोनों को कोरोना हो गया, तो डॉक्टर ने ख़ुद की 6 महीने की बेटी की देखभाल

इस महामारी के दौर में डॉक्टर्स ने अपने फ़र्ज़ से ऊपर उठकर काम किया है. उन्होंने दोहरी ज़िम्मेदारी निभाई है. ऐसे कई मौके आये, जब डॉक्टर्स और मेडिकल वर्कर्स ने न सिर्फ मरीजों का इलाज किया बल्कि दो कदम आगे बढ़ कर उनकी मदद भी की. कहीं एक नर्स ने कोरोना मरीज़ मां के बच्चे को दूध पिलाया, तो कहीं डॉक्टर ने कोरोना मरीज़ की लाश को शमशान तक पहुंचाया.

एक ऐसी ही डॉक्टर केरल की हैं, जिन्होंने एक महीने तक एक 6 महीने की बच्ची की देखभाल की. उनका नाम डॉ Mary Anitha है. बच्ची के माता-पिता दोनों को कोरोना संक्रमण हो गया था, जिसके बाद डॉक्टर ने बच्ची का ख्याल खुद रखने का फैसला लिया.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, बीते बुधवार डॉ Anitha ने 6 महीने की एलविन को उसके पेरेंट्स को सौंपा. एलविन के पेरेंट्स बतौर नर्स हेल्थ केयर में काम करते हैं. पिता अभी गुरुग्राम में ही हैं, लेकिन मां केरल में. पिता को पहले कोरोना हुआ फिर मां भी इसकी चपेट में आ गयीं. जिसके बाद एलविन को संभालने की ज़िम्मेदारी डिस्ट्रिक्ट चाइल्ड वेलफेयर कमेटी पर आ गयी. इस दौरान कमिटी ने डॉक्टर मैरी को अप्रोच किया. उन्होंने बताया कि कुछ दिन मां के साथ रहने की वजहसे उसके इंफेक्टिड होने के चांस ज्यादा हैं.

Leave a Comment