प्रवासी मजदूरों को नौकरी देने में नीतीश सरकार फेल, 5 दिन में 83000 लेबर पहुंचा दिल्ली-मुम्बई

काम पर लौटने लगा देश: पांच दिन में दिल्ली पहंुचे 81 हजार श्रमिक; 1 करोड़ ट्रकों में से 45 लाख सड़कों पर दौड़ने लगे, दिल्ली-मुंबई और अहमदाबाद पहुंचने वालों की संख्या ज्यादा, दिल्ली और मुंबई में सबसे ज्यादा मजदूर लौट रहे हैं। अहमदाबाद तीसरे नंबर पर है।

बिहार, यूपी और प. बंगाल से सबसे ज्यादा लौट रहे : कोरोना की वजह गांव लौटे लोग अब तेजी से शहरों की ओर लौटने शुरू हो गए हैं। रेल मंत्रालय के मुताबिक 27 जून से 30 जून के बीच दिल्ली में सबसे ज्यादा 81 हजार लोग पहुंचे। इसके अलावा मुंबई, अहमदाबाद सूरत, अमृतसर, सिकंदराबाद, जोधपुर की ओर लोगों ने सफर किया। इन ट्रेनों में 100% से अधिक बुकिंग रही। लॉकडाउन के दौरान करीब 5% ट्रक रोड पर थे, जो केवल जरूरी सामान की आपूर्ति कर रहे थे, लेकिन अब यह संख्या 45% तक पहुंच गई है।

देश में एक करोड़ से ज्यादा ट्रक चल रहे थे। अॉल इंडिया मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस के जनरल सेक्रेटरी नवीन गुप्ता ने कहा कि त्योहारी सीजन यानी सितंबर-अक्टूबर तक 70% ट्रकों के सड़कों पर आने की संभावना है। टेक्सटाइल हब माने जाने वाले सूरत, अहमदाबाद और मुंद्रा, कांडला पोर्ट में भी श्रमिकों की 60% उपस्थिति दर्ज की गई है।

ई-वे बिल जनरेट हुए : जनवरी 5.99 करोड़, अप्रैल 86 लाख, मई 2.54 करोड़, जून 3.99 करोड़ लॉकडाउन में थे 6 लाख ट्रक, अब हैं 45 लाख : देश में कुल ट्रक 1 करोड़ {कोविड से पहले चल रहे थे 90-95 लाख {लॉकडाउन में चले 4-6 लाख {मौजूदा समय में 40-45 लाख {त्योहारी सीजन चलेंगे- करीब 70 लाख

दिल्ली की अोर 57 और मुंबई की ओर 48 ट्रेन चल रहीं : बिहार, यूपी, प. बंगाल, ओडिशा और असम से सबसे ज्यादा श्रमिक लौट रहे हैं। राजधानी दिल्ली के अलावा मुंबई, अहमदाबाद, सूरत, अमृतसर, जयपुर सबसे ज्यादा लोग लौट रहे हैं। सबसे ज्यादा 57 ट्रेनें दिल्ली की ओर चल रही हैं जबकि मुंंबई की ओर 48 ट्रेन जा रही हैं। सबसे अधिक इन राज्यों से : बिहार 83,625, यूपी 71,921, प. बंगाल 73,358, उड़ीसा 15,257

5 दिन में करीब 3 लाख से ज्यादा श्रमिक यहां लौटे : दिल्ली 81, 091, मुुंबई 77,904, अहमदाबाद सूरत 56,317, सिकंदराबाद 20,012, अमृतसर 15,591, जोधपुर 12,883

Leave a Comment